जैन दर्शन के अनुसार योग और कषाय का कार्य क्या है ?


जैन धर्म नहीं अपितु हिन्दू धर्म के अनुसार कषाय को खत्म करने के लिए निष्काम कर्म योग का सहारा लेना पड़ता है | योग का मूल उद्देश्य कषाय से पूर्ण निवृत्ति होती है | तभी हम प्रभु से आत्मसाक्षात्कार कर सकते हैं |

 

Nishkama Karma Yoga | निष्काम कर्म योग का महत्व | Vijay Kumar Atma Jnani

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.